Destiny

Chandansinghकिस्मत
******
चंदन नगर का राजा चंदन सिंह बहुत ही पराक्रमी एवं शक्तिशाली था | उसका राज्य भी धन-धान्य से पूर्ण था | राजा की ख्याति दूर-दूर तक फैली थी |

एक बार चंदन नगर में एक ज्योतिषी पधारे | उनका नाम था भद्रशील | उनके बारे में विख्यात था कि वह बहुत ही पहुंचे हुए ज्यातिषी हैं और किसी के भी भविष्य के बारे में सही-सही बता सकते हैं | वह नगर के बाहर एक छोटी कुटिया में ठहरे थे |

अब ज्योतिषी भद्रशील नगर छोड़कर जाने लगे तो उनकी इच्छा हुई कि वह भी राजा के दर्शन करें | उन्होंने राजा से मिलने की इच्छा व्यक्त की और राजा से मिलने की अनुमति उन्हें सहर्ष मिल गई | राज दरबार में राजा ने उनका हार्दिक स्वागत किया | चलते समय राजा ने ज्योतिषी को कुछ हीरे-जवाहरात देकर विदा करना चाहा, परंतु ज्योतिषी ने यह कह कर मना कर दिया कि वह सिर्फ अपने भाग्य का खाते हैं | राजा की दी हुई दौलत से वह अमीर नहीं बन सकते |

राजा ने पूछा – “इससे क्या तात्पर्य है आपका गुरुदेव ?”

“कोई भी व्यक्ति अपनी किस्मत और मेहनत से गरीब या अमीर होता है | यदि राजा भी किसी को अमीर बनाना चाहे तो नहीं बना सकता | राजा की दौलत भी उसके हाथ से निकल जाएगी |”

यह सुनकर राजा को क्रोध आ गया |

“गुरुदेव ! आप किसी का हाथ देखकर यह बताइए कि उसकी किस्मत में अमीर बनना लिखा है या गरीब, मैं उसको उलटकर दिखा दूंगा |” राजा बोले |

“ठीक है, आप ही किसी व्यक्ति को बुलाइए, मैं बताता हूं उसका भविष्य और भाग्य |” ज्योतिषी ने शांतिपूर्वक उत्तर दिया |

राजा ने अपने मंत्री को चुपचाप कुछ आदेश दिया और कुछ ही क्षणों में एक सजा-धजा नौजवान ज्योतिषी के सामने हाजिर था | ज्योतिषी भद्रशील ने ध्यान से उस व्यक्ति का माथा देखा फिर हाथ देखकर कहा – “यह व्यक्ति गरीबी में जन्मा है और जिन्दगी भर गरीब ही रहेगा | इसे खेतों और पेड़ों के बीच कुटिया में रहने की आदत है और वहीं रहेगा |”

राजा चंदन सिंह सुनकर हैरत में पड़ गया, बोला – “आप ठीक कहते हैं, यह सजा-धजा नौजवान महल के राजसी वस्त्र पहनकर आया है, परंतु वास्तव में यह महल के बागों की देखभाल करने वाला गरीब माली है | परंतु गुरुदेव एक वर्ष के भीतर मैं इसे अमीर बना दूंगा | यह जिन्दगी भर गरीब नहीं रह सकता |”

राजा का घमंड देखकर ज्योतिषी ने कहा – “ठीक है, आप स्वयं आजमा लीजिए, मुझे आज्ञा दीजिए |” और ज्योतिषी भद्रशील चंदन नगर से चले गए |

राजा ने अगले दिन माली दयाल को बुलाकर एक पत्र दिया और साथ में यात्रा करने के लिए कुछ धन दिया | फिर उससे कहा – “यहां से सौ कोस दूर बालीपुर में मेरे परम मित्र भानुप्रताप रहते हैं, वहां जाओ और यह पत्र उन्हें दे आओ |”

सुनकर दयाल का चेहरा लटक गया | वह पत्र लेकर अपनी कुटिया में आ गया और सोचने लगा यहां तो पेड़ों की थोड़ी-बहुत देखभाल करके दिन भर आराम करता हूं | अब इतनी गर्मी में इतनी दूर जाना पड़ेगा |

परंतु राजा की आज्ञा थी, इसलिए अगले दिन सुबह तड़के वह चंदन नगर से पत्र लेकर निकल गया | दो गांव पार करते-करते वह बहुत थक चुका था और धूप चढ़ने लगी थी | इस कारण उसे भूख और प्यास भी जोर की लगी थी | वह उस गांव में बाजार से भोजन लेकर एक पेड़ के नीचे खाने बैठ गया | अभी आधा भोजन ही कर पाया था कि उसका एक अन्य मित्र, जो खेती ही करता था, मिल गया |

दयाल ने अपनी परेशानी अपने मित्र टीकम को बताई | सुनकर टीकम हंसने लगा, बोला – “इसमें परेशानी की क्या बात है ? राजा के काम से जाओगे, खूब आवभगत होगी | तुम्हारी जगह मैं होता तो खुशी-खुशी जाता |” यह सुनकर दयाल का चेहरा खुशी से खिल उठा, “तो ठीक है भैया टीकम, तुम ही यह पत्र लेकर चले जाओ, मैं एक दिन यहीं आराम करके वापस चला जाऊंगा |”

टीकम ने खुशी-खुशी वह पत्र ले लिया और दो दिन में बाली नगर पहुंच गया | वहां का राजा भानुप्रताप था | टीकम आसानी से भानुप्रताप के दरवाजे तक पहुंच गया और सूचना भिजवाई कि चंदन नगर के राजा का दूत आया है | उसे तुरंत अंदर बुलाया गया |

टीकम की खूब आवभगत हुई | दरबार में मंत्रियों के साथ उसे बिठाया | गया जब उसने पत्र दिया तो भानुप्रताप ने पत्र खोला | पत्र में लिखा था – “प्रिय मित्र, यह बहुत योग्य एवं मेहनती व्यक्ति है | इसे अपने राज्य में इसकी इच्छानुसार चार सौ एकड़ जमीन दे दो और उसका मालिक बना दो | यह मेरे पुत्र समान है | यदि तुम चाहो तो इससे अपनी पुत्री का विवाह कर सकते हो | वापस आने पर मैं भी उसे अपने राज्य के पांच गांव इनाम में दे दूंगा |”

राजा भानुप्रताप को लगा कि यह सचमुच में योग्य व्यक्ति है, उसने अपनी पुत्री व पत्नी से सलाह करके पुत्री का विवाह टीकम से कर दिया और चलते समय ढेरों हीरे-जवाहारात देकर विदा किया |

उधर, आलसी दयाल थका-हारा अपनी कुटिया में पहुंचा और जाकर सो गया | दो दिन सोता रहा | फिर सुबह उठकर पेड़ों में पानी देने लगा | सुबह जब राजा अपने बाग में घूमने निकले तो दयाल से पत्र के बारे में पूछा | दयाल ने डरते-डरते सारी राजा को बता दी |

राजा को बहुत क्रोध आया और साथ ही ज्योतिषी की भविष्यवाणी भी याद आई | परंतु राजा ने सोचा कि कहीं भूल-चूक भी हो सकती है | अत: वह एक बार फिर प्रयत्न करके देखेगा कि दयाल को धनी किस प्रकार बनाया जाए ? तीन-चार दिन पश्चात् दयाल राजा का गुस्सा कम करने की इच्छा से खेत से बड़े-बड़े तरबूज तोड़कर लाया | और बोला – “सरकार, इस बार फसल बहुत अच्छी हुई है | देखिए, खेत में कितने बड़े-बड़े तरबूज हुए हैं | राजा खुश हो गया | उसने चुपचाप अपने मंत्री को इशारा कर दिया | मंत्री एक बड़ा तरबूज लेकर अंदर चला गया और उसे अंदर से खोखला कर उसमें हीरे-जवाहारात भरवाकर ज्यों का त्यों चिपकाकर ले आया |

राजा ने दयाल से कहा – “हम आज तुमसे बहुत खुश हुए हैं | तुम्हें इनाम में यह तरबूज देते हैं |”

सुनकर दयाल का चेहरा फिर लटक गया | वह सोचने लगा कि राजा ने इनाम दिया भी तो क्या ? वह बड़े उदास मन से तरबूज लेकर जा रहा था, तभी उसका परिचित लोटन मिल गया | वह बोला – “क्यों भाई, इतने उदास होकर तरबूज लिए कहां चले जा रहे हो ?”

दयाल बोला – “क्या करूं, बात ही कुछ ऐसी है | आज राजा मुझसे खुश हो गए, पर इनाम में दिया यह तरबूज | भला तरबूज भी इनाम में देने की चीज है ? मैं किसे खिलाऊंगा इतना बड़ा तरबूज ?”

लोटन बोला – “निराश क्यों होते हो भाई, इनाम तो इनाम ही है | मुझे ऐसा इनाम मिलता तो मेरे बच्चे खुश हो जाते |”

“फिर ठीक है, तुम्हीं ले लो यह तरबूज |” और दयाल तरबूज देकर कुटिया पर आ गया |

अगले दिन राजा ने दयाल का फिर वही फटा हाल देखा तो पूछा – “क्यों, तरबूज खाया नहीं ?”

दयाल ने सारी बात चुपचाप बता दी | राजा को दयाल पर बड़ा क्रोध आया ? पर कर क्या सकता था |

अगले दिन दयाल ने लोटन को बड़े अच्छे-अच्छे कपड़े पहने बग्घी में जाते देखा तो उसके आश्चर्य का ठिकाना न रहा | दयाल ने अचानक धनी बनने का राज लोटन से पूछा तो उसने तरबूज का किस्सा बता दिया | सुनकर दयाल हाथ मलकर रह गया | तभी उसने देखा कि किसी राजा की बारात – सी आ रही है | उसने पास जाकर पता किया तो पता लगा कि कोई राजा अपनी दुल्हन को ब्याह कर ला रहा था | ज्यों ही उसने राजा का चेहरा देखा तो उसके हाथों के तोते उड़ गए | उसने देखा, राजसवारी पर टीकम बैठा था | अगले दिन टीकम से मिलने पर उसे पत्र की सच्चाई पता लगी, परंतु अब वह कर ही क्या सकता था ?

राजा ने भी किस्मत के आगे हार मान ली और सोचने लगा – ‘ज्योतिषी ने सच ही कहा था, राजा भी गरीब को अमीर नहीं बना सकता, यदि उसकी किस्मत में गरीब रहना लिखा है |’ अब राजा ने ज्योतिषी भद्रशील को बहुत ढ़ुंढ़वाया, पर उनका कहीं पता न ल

Comments

comments